(Last Updated On: August 15, 2018)

16 Mahajanapadas History In Hindi : महाजनपदों का उदय : दोस्तों , आज हम Notes In Hindi Series में आपके लिए लेकर आये हैं वैदिक सभ्‍यता से सम्बन्धित सामान्य ज्ञान ! 16 Mahajanapadas Hindi से सम्बन्धित बहुत से Questions Competitive Exams में पूछे जाते हैं , यह एक बहुत ही विशेष Part आता है हमारे Gs का | तो आज हम पढेंगे 16 Mahajanapadas History In Hindi,Rise of Mahajanpads In Hindi,महाजनपदों का उदय के बारे में !

16 Mahajanapadas History In Hindi

ई० पू० छठी शताब्‍दी में उदित 16 महाजनपद

 महाजनपद  राजधानी
·       अंग  चंपा
·       मगध  पटना
·       काशी  वाराणसी
·       वत्‍स कौशांबी
·       वज्जि वैशाली, विदेह, मिथिला
·       कोशल श्रावस्‍ती
·       अवन्ति उज्‍जैन
·       मल्‍ल कुशावती
·       पंचाल अहिच्‍छत्र, काम्पिल्‍य
·       चेदि शक्तिमती
·       कुरू इन्‍द्रप्रस्‍थ
·       मतस्‍य विराटनगर
·       कम्‍बोज हाटक
·       शूरसेन मथुरा
·       अश्‍मक

·       गान्‍धार

पोटील/पोतन

तक्षशिला

 

  • बौद्ध ग्रन्‍थ अंगुत्‍तर निकाय एवं जैन साहित्‍य भगवती सूत्र से महाजनपदों का उल्‍लेख प्राप्‍त होता है, जिनकी संख्‍या 16 है।
  • सोलह  महाजनपदों में मगध, कोसल, वत्‍स और अ‍वन्ति सर्वाधिक शक्तिशाली थे।
  • सोलह महाजनपदों में अश्‍मक एकमात्र जनपद था। जो दक्षिण भारत में अवस्थित था।
  • गांधार एवं कंबोज महाजनपद पाकिस्‍तान में स्थित थे।
  • सभी महाजनपदों में सर्वाधिक संख्‍या में (8) महाजनपद आधुनिक उत्‍तर प्रदेश में थे।
  • अंग, वज्जि तथा मगध महाजनपद बिहार में स्थित थे।
  • छठी शताब्‍दी ई०पू० में विश्‍व के पहले गणतांत्रिक राज्‍य (Republican state) ‘वज्जि संघ’ का भी उदय हुआ ।
  • छठी शताब्‍दी ई०पू० में मल्‍ल एवं शाक्‍य अन्‍य महत्‍वपूर्ण गणराज्‍य थे।

दोस्तों आशा है यह Article 16 Mahajanapadas History In Hindi : महाजनपदों का उदय आपकी प्रतियोगी परीक्षाओ की तैयारी में काफी मदद करेगा , ऐसे ही Articles पढ़ने के लिए जुड़े रहे : SSC Hindi के साथ !!

1 COMMENT

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here