Custom Text

AM PM Full Form / Meaning In Hindi : AM PM का Full Form क्या है ?

नमस्कार दोस्तों स्वागत है आज के इस पोस्ट में हम जानेंगे AM PM का Full Form ( AM PM Full Form, Full Form of AM PM ) क्या होता है, AM PM Ka Kya matlb Hota Hai, AM PM Full Form In Hindi,AM PM Meaning और साथ में यह भी जानेंगे कि Time Management(टाइम मैनेजमेंट) कैसे करें?,  तो दोस्तों इस पोस्ट को अंत तक पढ़िए| क्योंकि  यह प्रश्न बहुत ही Importent है|

AM Full Form (AM Full Form in Hindi)

Ante Meridiem (पूर्वाह्न)

PM Full Form (PM Full Form in Hindi)

Post Meridiem (अपराह्न)

AM & PM का अर्थ क्या होता है? : AM PM Meaning In Hindi

जैसा कि हमने ऊपर देखा AM का Full Form Ante Meridiem (पूर्वाह्न) होता है, यह एक लैटिन भाषा का शब्द है जिसका अर्थ होता है Before Noon अर्थात दोपहर के पहले| यदि आप की घड़ी में मध्य रात्रि के बाद और 12:00 दोपहर के 12:00 के बीच में समय देखेंगे, तो समय के बाद AM लिखा दिखेगा, और PM का Full Form Post Meridiem (अपराह्न) होता है यह भी लैटिन भाषा का शब्द है जिसका अर्थ After Noon अर्थात दोपहर के बाद होता है| यदि आप अपने घड़ी में दोपहर के 12:00 बजे के बाद और मध्य रात्रि के 12:00 बजे से पहले समय देखेंगे, तो आप की घड़ी में समय के बाद PM लिखा हुआ नजर आएगा|

उम्मीद है आप समझ में आ गया होगा कि AM PM का मतलब क्या होता है? चलिए यह जानते हैं कि AM PM को बाँटा क्यों गया?

AM PM की आवश्यकता?

आप सभी को पता है, 1 दिन 24 घंटे के बराबर होता है| पुरानी घड़ियों में 24:00 बजा करते थे, लेकिन उसके लिए घड़ी का आकार बड़ा करना पड़ता था, इसलिए 24 को दो भागों में बांट कर AM PM बना दिया गया इसीलिए अब सभी घड़ियां लगभग 12 ही बजाती हैं, और समय के सही पहचान के लिए AM और PM का प्रयोग किया जाता है|

चलिए इस Concept को प्रश्नों के द्वारा थोड़ा और अच्छे से समझते हैं:

  • सुबह के 10:00 बजे: 10AM
  • रात का 10:00 बजे: 10PM
  • दिन का 1:00 बजे: 1PM
  • रात का 1:00 बजे: 1AM
  • सुबह का 3:00 बजे: 3AM
  • शाम का 3:00 बजे: 3PM
  • सुबह का 7:00 बजे: 7AM
  • शाम का 7:00 बजे: 7PM

AM PM के प्रयोग का महत्व : Importance Of AM PM

यदि दोस्तों आप किसी को कोई समय दे रहे हैं, तो आपको उसमें AM या PM का प्रयोग ज़रुर करना चाहिए, जैसे कि आप किसी को कहते हैं कि कल 8:00 बजे मैं आपको फोन करूँगा| तो इससे यह पता नहीं चलता कि आप सुबह के 8:00 बजे फोन करेंगे या शाम के 8:00 बजे|

आप यह कह सकते हैं कि मैं सुबह या शाम के 8:00 बजे फोन करूँगा, या फिर अभी आप भी कर सकते हैं कि मैं 8:00 PM पर या 8:00 AM पर कॉल करूँगा|

12 घंटों की समय प्रणाली में समय की सही जानकारी करने के लिए PM का प्रयोग बहुत ही आवश्यक है, बहुत बार देखा जाता है कि लोगों को AM और PM का सही ज्ञान नहीं होता है और वह यह नहीं समझ पाते कि AM और PM का मतलब सुबह का समय होता है या शाम का|

Time Management Tips for Students (Students के लिये Time Management Tips)

दोस्तों हमेशा कहा जाता है कि समय ही धन है या Time is money, लेकिन क्या सच में आप समय को धन की तरह खर्च करते हैं ? मुझे तो जहां तक लगता है कि अधिकतर लोग समय को ऐसे ही खर्च कर देते हैं, और फिर जब समय निकल जाता है, तो सोचते हैं कि काश उस समय पर यह काम कर लिया होता|

इसीलिए हम कुछ Time Management Tips  बारे में जानेंगे, जिससे आपको अपने टाइम को ढंग से मैनेजमेंट करने में मदद मिल सकती है|

वह कहा जाता है, ना काम थोड़ा करो, लेकिन मतलब का करो|

कहने का मतलब यह है, कि काम में समय बहुत लगाना जरूरी नहीं है, लेकिन जितना समय आप काम में दो, वह व्यर्थ नहीं होना चाहिए|

  • खुद का एक समय सारणी(Time Table) बनाएं

दोस्तों जब भी हम समय को सही तरीके से manage करने की बात करते हैं तो सबसे पहले एक समय सारणी(Time Table) का ख्याल हमारे दिमाग में आता है, ऐसा भी होता है कि हम बहुत बार समय सारणी बनाते हैं, लेकिन हम उसे follow नहीं कर पाते हैं| तो दोस्तों इस बार आपको ऐसा समय सारणी बनाना है, कि जिसे आप follow भी कर सके| जरूरी नहीं कि समय सारणी में आप बहुत ज्यादा समय अपने काम को दो, या फिर बहुत ज्यादा समय व्यस्त रहो| आप समय सारणी में इतना समय ही काम के लिए रखो, जितना कि आप कर सकते हो और जरूरी नहीं कि पूरा समय सारणी एक ही दिन में follow होना शुरू हो जाए हो सकता है, कि आप समय सारणी को धीरे-धीरे follow करना शुरू करें, क्योंकि समय सारणी कोई एक दिन का चीज नहीं है| इसे आपको प्रतिदिन follow करना है, जिससे आपका समय Productive बनेगा|

Tps: यदि आप कार्य करते हो, या पढ़ाई करते हो आप को चाहिए कि अपने समय सारणी में हर कार्य को 45 मिनट का समय दें, फिर हर 45 मिनट के बाद 5 या 10 मिनट का break लें| जिसमें कि पानी पिए या थोड़ा सा walking करें, जिससे कि आप bore भी नहीं होंगे और आपका काम में मन भी लगा रहेगा, यह बहुत ही कारगर तरीका है|

  • To-Do list बनाएं

प्रतिदिन सुबह उठने के बाद 5 मिनट का समय निकालकर To-Do list बताएं, To-Do list बनाने का यह फायदा है कि आप अपने सभी काम को याद रख पाएंगे|

आपको करना कुछ ज्यादा नहीं है, बस सुबह उठना है और एक कॉपी या अपने खुद के मोबाइल में एक नोट लिखें, जिसमें सुबह से लेकर शाम तक के सारे काम को लिख ले, जो कि आज आपको करना है|

  • Comfort zone से बाहर निकले

Comfort zone से बाहर है यानी कि आलस्य को छोड़े, कभी-कभी ऐसा होता है कि हम समय सारणी(Time Table) तो बना लेते हैं, लेकिन उसे follow नहीं कर पाते, कारण होता है कि हमें बहुत आलस आता है| तो दोस्तों यदि आपको समय को सही से उपयोग करना है, तो आपको आलस्य को छोड़ना पड़ेगा|

विद्वानों का कहना है कि परिश्रम का फल मीठा होता है|

  • समय-समय पर खुद को Analysis करते रहे :-

दिन में या सप्ताह में समय-समय पर खुद को Analysis करते रहे, देखें की आप अपनी समय सारणी को सही से follow कर रहे हैं या फिर नहीं और यदि नहीं कर पा रहे हैं तो उसमें क्या क्या दिक्कत हो रहा है?

  • खाली समय को भी प्रयोग करें :-

बहुत बार ऐसा होता है कि ना चाहते हुए भी आपको बहुत सारी खाली समय मिल जाता है, जैसे कि अगर आप छात्र हो, तो आपको कक्षा में खाली घंटे मिल जाएगी जिसमें आप अन्य कोई कार्य भी नहीं कर पाओगे| तो उस समय यही अच्छा होगा कि आप उस समय का सही प्रयोग करें हो सके, तो कुछ अच्छी किताबें पढ़ें|

  • Motivate करें :-

दोस्तों जैसे गाड़ी को चलने के लिए पेट्रोल की जरूरत होती है, वैसे ही इंसान को कार्य करते रहने के लिए मोटिवेशन की जरूरत होती है| तो दोस्तों आपको चाहिए कि समय-समय पर आप खुद को motivate करते रहें, जिससे यह होगा कि आप कभी रोकेंगे नहीं और हम चाहते भी क्या है, ना रुकना है थकना है बस चलते रहना |

उम्मीद है दोस्तों आपको AAM PM का Full Form ( AM PM Full Form, Full Form of AM PM ) क्या होता है और Time Management(टाइम मैनेजमेंट) कैसे करें? समझ में आ गए होंगे यदि आपको कोई प्रश्न पूछना है तो नीचे कमेंट करके ज़रूर पूछे, हमें आपकी सहायता करके ख़ुशी होगी|

धन्यवाद!

Read More :

अपना जवाब लिखें

Please enter your comment!
यहाँ अपना नाम डाले !